Type Here to Get Search Results !

बेटा बना दरिंदा शराब के लिए लोहे के रॉड से पिता की ले ली जान

0

 


चाकू से काट दी जबान , फोड़ दी एक आंख 




लखीमपुर खीरी के मझगईं क्षेत्र में शराब पीने के लिए रुपये न देने पर इकलौते पुत्र ने बेरहमी से रॉड से हमलाकर बुजुर्ग पिता की जान ले ली। मृतक की पत्नी के मुताबिक, आरोपी बेटे ने रॉड से सिर पर कई प्रहार किए। इतना ही नहीं मुंह के अंदर चाकू घुसाकर जुबान काट दी। बाई आंख भी फोड़ दी। गंभीर हालत में पति को लखनऊ के एक अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनकी मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी पुत्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
मझगईं थाना क्षेत्र के बल्लीपुर गांव निवासी सतनू गौतम (60) से उसके इकलौते पुत्र अटल कुमार (32) ने शुक्रवार की रात शराब पीने के लिए रुपये मांगे। रुपये देने से पिता ने मना कर दिया। इससे गुस्साए पुत्र ने लोहे की रॉड से पिता के सिर पर जानलेवा प्रहार करने शुरू कर दिए। वह खून से लथपथ होकर घर में ही गिर गए।

चाकू से काटी जुबान 
सतनू की पत्नी लज्जावती का कहना है कि अटल ने लोहे की रॉड से अपने पिता के सिर पर कई प्रहार किए। चाकू से जुबान काटने के बाद एक आंख भी फोड़ दी। गंभीर हालत में उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां से उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। रुपये न होने पर परिजन गंभीर हालत में उन्हें घर वापस ले आए।

सोमवार को गांव में कुछ लोगों से रुपयों का इंतजाम किया। इसके बाद देर शाम जब परिवार के लोग उन्हें लखनऊ लेकर जा रहे थे कि रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया। इससे परिजनों में कोहराम मच गया है।
थाना प्रभारी पुष्पराज कुशवाहा ने बताया कि मृतक की पत्नी लज्जावती की तहरीर पर आरोपी पुत्र के विरुद्ध जानलेवा हमला समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। आरोपी अटल कुमार को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। मंगलवार को आरोपी जेल भेज दिया। वहीं, बुजुर्ग का शव देर शाम तक घर नहीं पहुंचा है।
शराब पीने का आदी है आरोपी
ग्रामीणों के अनुसार आरोपी अटल गांव में ही बिकने वाली कच्ची शराब पीने का आदी है। आए दिन शराब पीकर घर में आतंक मचाता रहता था। शुक्रवार को रुपये मांगने पर मना कर दिया तो उसने पिता की जान ले ली।
जिंदा रहते हुए कई बार पुत्र की पुलिस में की थी शिकायत
जिंदा रहते हुए बुजुर्ग पिता ने पुत्र के परेशान करने के संबंध में पुलिस में कई बार शिकायत की, लेकिन पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध कार्रवाई नहीं की। पुलिस शिकायतों को गंभीरता से ले लेती तो बुजुर्ग को जान गंवानी नहीं पड़ती।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad