Type Here to Get Search Results !

मस्जिद के इमाम की अजमेर में पीटकर हत्या

0

नकाबपोस बदमाशो ने सो रहे बच्चो को भी धमकाया 



रामपुर। सैफनी थाना क्षेत्र के पुराना रायपुर गांव निवासी मौलाना मोहम्मद माहिर (29) की राजस्थान के अजमेर में मस्जिद में घुसकर पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। अजमेर शरीफ के थाना रामगंज क्षेत्र के गांव दूरई के मोहल्ला कंचन नगर में तीन नकाबपोश बदमाशों ने शनिवार तड़के तीन बजे लाठी-डंडों से हमलाकर वारदात को अंजाम दिया। पुराना रायपुर निवासी मोहम्मद माहिर मोहल्ला कंचन नगर स्थित मोहम्मदी मस्जिद में इमाम थे। ग्रामीणों के अनुसार मौलाना पिछले सात सालों से वहां रहकर एक मदरसे में बच्चों को पढ़ाते थे। मोहम्मदी मस्जिद के मुख्य इमाम की मौत के बाद अक्तूबर 2023 से मौलाना माहिर मस्जिद में इमामत कर रहे थे। शुक्रवार देर रात करीब ढाई बजे मोहम्मदी मस्जिद में तीन नकाबपोश बदमाश पीछे के रास्ते से दाखिल हुए और लाठी-डंडों से पीटकर मौलाना की हत्या कर दी।
इमाम के साथ कमरे में मदरसे में पढ़ने वाले कई बच्चे भी सो रहे थे। बदमाशों ने पहले बच्चों को धमकाकर कमरे से बाहर निकाला। उसके बाद घटना को अंजाम दिया। बच्चों की चीख-पुकार सुनकर मोहल्ले के लोग पहुंच गए। सूचना पर अजमेर के रामगंज थाना प्रभारी रविंद्र सिंह डॉग स्क्वॉड के साथ मौके पर पहुंच गए। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के बाद जांच शुरू कर दी। रवींद्र सिंह ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चलता है कि हमले में तीन नकाबपोश व्यक्ति शामिल थे। वहां मौजूद रहे बच्चों की सुरक्षा भी सुनिश्चित की जा रही है, जो घटना के मुख्य गवाह हैं। पुलिस हमलावरों और हत्या के मकसद के बारे में जानकारी जुटाने के लिए इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है।
अजमेर पहुंचे परिजन
माहिर की हत्या की जानकारी जब सैफनी के रायपुर गांव में परिजनों को मिली तो मातम छा गया। पिता असलम बेटे की मौत की खबर सुनकर बेसुध हो गए। जिसके बाद परिवार के कई लोग अजमेर के लिए रवाना हो गए। रायपुर के प्रधान इमरान समेत कई परिजन शनिवार शाम चार बजे अजमेर पहुंच गए। हत्या को सुलझाने में राजस्थान पुलिस जुटी हुई है।
शादी के लिए रिश्ता तलाश रहे थे परिजन
मौलाना मोहम्मद माहिर की शादी के लिए परिजन रिश्ता ढूंढ रहे थे। इसी बीच इस अनहोनी के कारण परिवार के अरमानों पर पानी फिर गया। मौलाना की बड़ी बहन की शादी के बाद शादी होनी थी। मौलाना तीन भाई थे, जिसमें एक भाई उनसे बड़ा और एक छोटा है। दोनों भाई गांव में ही रहते हैं।
मस्जिद में इमामत को लेकर हो सकता है विवाद
परिजनों के अनुसार माहिर की हत्या के पीछे मस्जिद में इमामत का कारण हो सकता है। मोहम्मदी मस्जिद में वो हाल में ही इमाम बने थे, इससे पहले मुख्य इमाम की मौत हो गई थी। जिसके बाद मस्जिद की देखरेख मौलाना माहिर ही करते थे। हत्या में इमामत करने और मस्जिद की जिम्मेदारी को लेकर विवाद हो सकता है। पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad