Type Here to Get Search Results !

दो सगे भाइयों की हत्या के 4 घंटे बाद ही आरोपी को भी पुलिस ने मुढभेड़ मार डाला

0

 आरोपी अपने दो दोस्तों के साथ संगीता से मुलाकात करने के लिए आया था तो फिर हत्या क्यों की ?

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले से दिल दहालने वाली वारदात सामने आई है। यहां एक दो मासूम बच्चों की गला रेतकर हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या करने वाले आरोपी को मुठभेड़ में मार गिराया। दो बच्चों की हत्या के बाद भीड़ आक्रोशित हो गई। उन्होंने आगजनी कर तोड़फोड़ भी की। 


आरोपी युवक ने मासूम बच्चों को उनके घर की छत पर ही मारा था। घटना स्थल का मंजर इतना भयावह था कि हर कोई दहल गया। पूरी छत पर खून बिखरा था। आयुष और अहान के तलवों पर भी खून लगा था। छत पर खून में सने उनके पावों के निशान भी थे। इससे साफ था कि दोनों बच्चे साजिद से बचने के लिए छत पर इधर-उधर भागे थे। 
ठेकेदार विनोद ठाकुर ने पढ़ने के लिए तीनों बेटों का दाखिला नजदीक के ही शिव देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में कराया था। आयुष कक्षा छह का छात्र था, जबकि अहान एलकेजी में पढ़ता था। पीयूष कक्षा तीन का छात्र है। उनके दोस्तों के मुताबिक, आयुष और अहान बहुत सीधे थे। वे घर से बाहर खेलने भी नहीं जाते थे। स्कूल में जरूर अपने दोस्तों से मिलते थे। पढ़ाई में भी होशियार थे।
आरोपियों के दूसरे समुदाय के होने से गुस्सा भड़क उठा। जाम लगाकर हंगामा करते हुए दूसरे समुदाय के तीन खोखों में आग लगा दी। इसके बाद पुलिस ने आरोपी साजिद को मौके से करीब दो किमी. दूर पुरानी चांदमारी के पास घेराबंदी कर मुठभेड़ में ढेर कर दिया। उसके दो साथियों की तलाश की जा रही है। पुलिस हत्या की वजह पता कर रही है।

 जानकारी के अनुसार, बाबा कॉलोनी में मजिया रोड के रहने वाले ठेकेदार ‘हर घर जल योजना’ के तहत ओवरहेड टैंक का निर्माण कराते हैं। उनके मकान के सामने ही कस्बा सखानू के रहने वाले साजिद की बाल काटने की दुकान है। विनोद की पत्नी संगीता अपने मकान के निचले हिस्से में ब्यूटी पार्लर चलाती हैं। 
इसके चलते दोनों परिवारों के काफी अच्छे संबंध थे। साजिद का उनके घर आना-जाना भी था। मंगलवार रात संगीता तीन बच्चों आयुष, अहान और पीयूष (8) के साथ घर पर थीं, जबकि विनोद लखीमपुर खीरी गए हुए थे। साजिद शाम चार बजे दुकान बंद करके चला गया था।

आरोपी अपने दो दोस्तों के साथ संगीता से मुलाकात करने के लिए आया था तो हत्या क्यों करनी पड़ी 
आरोपी साजिद रात आठ बजे अपने दो साथियों के साथ संगीता से मिलने आया तो संगीता उनके लिए चाय बनाने अंदर को चली गईं। तभी साजिद उनके दो बेटों आयुष और अहान को अपने साथ ऊपर ले गया। साथ ही, पीयूष से पानी लाने के लिए कहा। जब तक वह पानी लेकर ऊपर पहुंचा तब तक साजिद ने धारदार हथियार से आयुष और अहान की हत्या कर दी ऐसा बताया गया । उसके बाद 
सामने आए पीयूष पर भी चाकू से वार किया तो वह चीखता हुआ नीचे भागा। पीयूष के पीछे साजिद भी दौड़ा तो यह देख मां ने शोर मचाया। शोर सुनकर आसपास के लोग दौड़े और मां-बेटे को बाहर खींचकर दरवाजा बंद कर दिया।
 आरोपी की दुकान के साथ, चार दुकानें फूंकी

सूचना पर पहुंची पुलिस साजिद की तलाश में जुट गई। इस बीच आसपास के लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा हो गए। नृशंस हत्या देख उनका गुस्सा बढ़ने लगा। इधर आक्रोशित भीड़ ने साजिद की दुकान तोड़कर सामान निकाला और सड़क पर रखकर फूंक दिया। आसपास के चार दुकानों को आग के हवाले कर दिया। लोग एक समुदाय के धर्मस्थल तक पहुंच गए लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक लिया।

                        भारी संख्या में बल तैनात
आगजनी के बाद गुस्साए लोग पुलिस चौकी पहुंच गए। वहां घेराव कर नारेबाजी करने लगे। सूचना पर एसएसपी पहुंचे और अन्य अफसरों के साथ मिलकर उन्हें समझाया। क्षेत्र में हालात नियंत्रण के लिए भारी पुलिस और अर्धसैनिक बल तैनात कर दिया। बाद में खबर मिली कि साजिद को पुलिस ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया।
                   पुलिस ने बंद करा दिया बाजार
वारदात के बाद हालात बेकाबू होते देख एसएसपी आलोक प्रियदर्शी ने पुलिस को शहर के सभी बाजार बंद कराने के निर्देश दिए। इस पर पुलिस ने शहर भर की दुकानें बंद करा दीं। पुलिस को डर था कि कहीं मामला और ज्यादा न भड़क जाए, लेकिन पुलिस की सूझबूझ ने स्थिति बिगड़ने से बचा ली।

सखानूं में आरोपी के घर दी दबिश, पसरा सन्नाटा
हत्यारोपी साजिद अलापुर थाना क्षेत्र के कस्बा सखानूं का रहने वाला था। हालांकि कई सालों से वह शहर में ही रह रहा था, जबकि परिवार के बाकी लोग सखानूं में ही रहते हैं। वारदात के बाद जिला मुख्यालय से वारलेस हुआ तो अलापुर थाना पुलिस ने सखानूं में आरोपी साजिद के घर दबिश दी। पुलिस देखकर मोहल्ले के लोग भी घरों में ताला डालकर खिसक गए। पूरे मोहल्ले में सन्नाटा पसरा दिखा।
भीड़ ने पुलिस चौकी फूंकने के लिए डाल दिया था पेट्रोल
वारदात के बाद गुस्साए लोगों ने पुलिस चौकी घेर ली थी। चौकी फूंकने के लिए पेट्रोल भी डाल दिया था। भीड़ को शक था कि आरोपी पुलिस चौकी में मौजूद है। भीड़ के गुस्से को देखते हुए पुलिस ने मझिया रोड पर वाहनों का आवागमन रोक दिया। इससे पुलिस चौकी के पास जाम लग गया। पुलिस ने जैसे-तैसे भीड़ को चौकी से हटाया। इसके बाद भीड़ घटना स्थल पर पहुंच गई और हंगामा करने लगी। पुलिस ने जैसे-तैसे भीड़ पर काबू पाया। इस बीच लोगों की पुलिस से तीखी नोकझोंक भी हुई। पुलिस को डंडे भी फटकारने पड़े।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad