Type Here to Get Search Results !

यह इश्क नहीं आसा?? एक और प्रेम कहानी का खौफनाक अंत

0

 


घर से दोनों भागे प्रेमी युगल और उठाया ये खौफ नाक कदम




बुढ़ाना/भौराकलां (मुजफ्फरनगर)। क्षेत्र के सिसौली और भौराखुर्द गांव का प्रेमी युगल घर से फरार हो गया। कुछ ही घंटे बाद दोनों ने फुगाना थाना क्षेत्र के करौदा महाजन गांव के पास जहरीला पदार्थ निगल लिया। युवक ने खुद ही घर पर कॉल कर जानकारी दी। पुलिस और परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया, जहां दोनों की मौत हो गई। सिसौली निवासी अनुसूचित जाति की निशा (22) और भौरा खुर्द गांव के मोनू कश्यप (23) के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। मंगलवार सुबह लगभग नौ बजे दोनों बाइक पर सवार होकर घर से भाग गए थे। रास्ते में ही उन्होंने जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। हालत बिगड़ने पर दोनों फुगाना के करौदा महाजन गांव के पास बैठ गए। इसके बाद मोनू ने अपनी मां को कॉल कर जहरीले पदार्थ का सेवन करने की जानकारी दी। युवक के परिजनों ने करीब 11.30 बजे डॉयल 112 पर कॉल कर सूचना दी। सीओ फुगाना डॉ. रवि शंकर ने बताया कि फुगाना थाने से पुलिस के अलावा डायल 112 टीम मौके पर पहुंची। प्रेमी युगल को शामली स्थित अस्पताल में ले जाया गया जहां उपचार के दौरान दोनों की मौत हो गई। दोनों का शामली में ही पोस्टमार्टम कराया गया है।

साथ निभाने की जिद में टूट गई सांसों की डोर
भौराकलां । निशा और मोनू के बीच लंबे समय से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। परिजनों को दोनों के प्रेम प्रसंग की जानकारी हुई तो उन्होंने दोनों के मिलने जुलने पर प्रतिबंध लगा दिया। दोनों साथ रहने की जिद पर अड़े थे और घर से फरार हो गए। दोनों ने एक साथ ही जहर का सेवन कर लिया और उनके सांसाें की डोर टूट गई।  मंगलवार सुबह मोनू कश्यप घर से निकल गया। प्रेमी युगल के आपसी वादे के अनुसार युवती उसे रास्ते में मिली। प्रेमी युगल ने फुगाना थाना क्षेत्र के गांव करौदा महाजन के जंगल में पहुंचकर जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। जहरीले पदार्थ के सेवन से दोनों की हालत बिगड़ गई। आसपास खेत में काम कर रहे ग्रामीणों ने युवक व युवती की गंभीर हालत को देखते हुए फुगाना पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने दोनों के परिजनों को सूचना देकर उपचार के लिए शामली में निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया। उपचार के दौरान दोनों ने दम तोड़ दिया। फास्ट फूड की ठेली लगता था मोनू
मोनू अपने गांव में फास्ट फूड बेचकर मां और भाइयों की मदद कर रहा था। पिता की मृत्यु काफी समय पूर्व हो चुकी थी। परिवार के पालन पोषण की जिम्मेदारी मां के कंधों पर आई तो युवक ने पढ़ाई छोड़कर बड़े भाइयों के साथ मिलकर फास्ट फूड तैयार करने का काम सीखा और कुशल कारीगर बन गया था। शादी विवाह के सीजन में शादी समारोह में फास्ट फूड तैयार करता तथा ऑफ सीजन में गांव में ही फास्ट फूड बेचकर परिवार की जिम्मेदारी निभा रहा था।


छह भाई-बहन में पांचवे नंबर का था मोनू
शामली। मृतक मोनू के बड़े भाई सचिन ने बताया कि वे छह भाई बहन हैं। परिवार मेहनत मजदूरी करता है। सबसे बड़ा भाई विपिन, दूसरे नंबर पर बहन सोनिया, तीसरे नंबर पर सचिन, चौथे नंबर पर बहन मोनिया और पांचवें नंबर पर मोनू और सबसे छोटा सोनू है। मोनू हलवाई का काम करता था। सुबह करीब आठ बजे मोनू को घर पर छोड़कर सभी परिजन खेत पर काम करने चले गए थे।
 इसके बाद परिजनों को किसी व्यक्ति ने मोनू के जहर खाने की जानकारी दी थी। परिजनों का कहना है कि मोनू का युवती से कब और कैसे संपर्क हुआ, इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है। शहर कोतवाली प्रभारी समयपाल अत्री ने बताया कि युवक व युवती की मौत शामली में हुई है इसलिए शामली पुलिस की तरफ से ही पंचनामा की कार्रवाई की जा रही है। दोनों शवों का पोस्टमार्टम शामली में ही होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad